गिरीश मालवीय
6 मई को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में 126 डॉक्टरों की मौत हुई….
20 मई को फिर एक खबर आई कि IMA के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर से अबतक 270 डॉक्टरों की मौत हुई….
28 मई को फिर एक खबर आयी कि कोरोना की दूसरी लहर में अब तक देश के 420 डॉक्टरों की मौत हो गयी हैं यह भी IMA से ही खबर आई थी
उसके बाद कल 3 जून को IMA के हवाले से ही खबर आई है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर में कुल 624 डॉक्टरों की मृत्यु हो गई है.
इस स्पीड से शायद IMA एकाध महीने में मान लेगा, जैसा रामदेव ने कहा था कि वेक्सीन लगाने के बाद 1000 डॉक्टरों की मौत हुई है ओर शायद अगले साल तक 10 हजार की भी कुबूल कर ले
लेकिन वाकई में यह हैरानी की बात है क्योकि IMA के अनुसार कोरोना की पहली लहर के दौरान , 748 डॉक्टरों की मौत हुई थी, 16 जनवरी 2021 से भारत मे टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई और सबसे पहले डॉक्टरों – नर्सो ओर अन्य हेल्थवर्कर को ही टीके लगाए गए तो 624 डॉक्टर की मौत होना तो वाकई बहुत आश्चर्यजनक बात है क्योंकि अभी 2021 में सिर्फ 5 महीने ही हुए हैं ओर 624 मौते हुई है जबकि मार्च-दिसम्बर में 10 महीनों में 748 डॉक्टरों की मौत बताई गई है
ऐसे में क्या IMA को एक बार खुद से ही वेक्सीनेशन की सफलता को जाँचने की माँग नही उठानी चाहिए ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *