यूपी कांग्रेस के कद्दावर नेता और राहुल गांधी के करीबी कहे जाने वाले जितिन प्रसाद आज बीजेपी में शामिल हो गये हैं, केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई, इसके साथ ही यूपी चुनाव से पहले इसे बड़ा सियासी संकेत माना जा रहा है, आइये आपको बताते हैं कि आखिर बीजेपी ने जितिन प्रसाद पर क्यों दांव लगाया है।
बताया जा रहा है कि कांग्रेस के बड़े ब्राह्मण चेहरों में से एक जितिन प्रसाद पिछले कई दिनों से पार्टी नेतृत्व से नाराज थे, वो पार्टी में खास तवज्जो ना मिलने और यूपी कांग्रेस के कुछ नेताओं से अपनी नाराजगी जाहिर भी कर चुके हैं, जितिन की शिकायत को पार्टी नेतृत्व ने संज्ञान लेना भी ठीक नहीं समझा, जिसके बाद उन्होने बीजेपी में जाने का फैसला लिया है।
यूपी में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं, इससे पहले बीजेपी अपने सभी सियासी समीकरण को दुरुस्त करने में जुट गई है, अंदरखाने खबर ये है कि बीजेपी से ब्राह्मणों का एक बड़ा तबका नाराज है, ये नाराजगी खासतौर से सीएम योगी आदित्यनाथ से है, ऐसे में बीजेपी जितिन प्रसाद को शामिल कर ब्राह्मणों के बीच बड़ा संदेश देना चाहती है।
जितिन प्रसाद के बीजेपी में शामिल होने पर राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, मुझे खुशी है कि वो पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में बीजेपी में शामिल हो रहे हैं, वो मेरे छोटे भाई हैं और मैं उनके लिये खुश हूं। सचिन पायलट पर सिंधिया ने कहा कि पायलट के साथ मेरा रिश्ता निजी है, और मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहता कि कांग्रेस के भीतर क्या हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *