ओलिंपिक में नहीं छलकेंगे जाम, खेल गांव में सार्वजनिक क्षेत्र में शराब हो सकता है बैन

तोक्यो ओलिंपिक के दौरान गेम विलेज के इलाकों में सार्वजनिक क्षेत्र में शराब पीने पर पाबंदी लगाई जा सकती है। तोक्यो ओलिंपिक गेम्स आयोजन समिति के सीईओ तोशहिरी मुतो ने कहा, ‘अगर वे अपने कमरों में पी रहे हैं तो यह ऐसा होगा जैसे हम अपने खुद के घर में पीते हैं। हम इन्हें कमरे के अंदर पीने से रोक नहीं सकते हैं और ऐसा करना काफी कठिन होगा।’

तोक्यो में कोरोना के प्रभाव को रोकने के लिए 20 जून तक स्टेट ऑफ इमरजेंसी लगी हुई है जहां रेस्टोरेंट और बार में शराब की बिक्री पर प्रतिबंध है। मुतो ने कहा, ‘हमने अबतक शराब को लेकर कोई फैसला नहीं लिया है। हमें उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक इस संबंध में फैसला ले लिया जाएगा।’


भारतीय निशानेबाजों से गोल्ड की उम्मीद

दूसरी ओर भारतीय पिस्टल टीम के लंबे समय से चले आ रहे विदेशी कोच पावेल स्मिरनोव का मानना है कि तोक्यो ओलिंपिक में उनके एक या दो या तीन नहीं बल्कि सभी निशानेबाज स्वर्ण पदक सहित अन्य पदक जीतने में सक्षम हैं। तोक्यो ओलंपिक 23 जुलाई से आठ अगस्त तक खेले जाएंगे और भारतीय निशानेबाजी टीम को प्रतिनिधित्व रेकॉर्ड 15 निशानेबाज करेंगे। विशेषकर बेहद प्रतिभाशाली युवा पिस्टल निशानेबाजों से जिसमें सौरभ चौधरी और मनु भाकर शामिल हैं। अभिषेक वर्मा और यशस्विनी सिंह देसवाल भी पदक के दावेदार हैं जबकि अनुभवी राही सरनोबत टीम को मजबूती प्रदान करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *