शिवाकांत अवस्थी

बछरावां/रायबरेली: यूपी के रायबरेली में बछरावां थाने की पुलिस ने चोरी की योजना बना रहे तीन शातिर अपराधियों को मुखबिर खास की सूचना पर गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। जिनके पास से स्मैक भी बरामद हुई है।

    आपको बता दें कि, पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बछरावां थाना अध्यक्ष राकेश सिंह को सूचना मिली कि, 3 लोग अवैध स्मैक के साथ हरदोई नहर पुलिया के पास बैठे हैं, जो कहीं चोरी की घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे। मुखबीर से सूचना पाते ही थाना अध्यक्ष राकेश सिंह ने थुलेंडी चौकी इंचार्ज उपनिरीक्षक अनिल कुमार सिंह व अरशद नदीम तथा चंद्र प्रताप सिंह, आरक्षी नाजिम, राहुल बिंद, अजय तिवारी, हरेंद्र कसाना, रानू कुमार, हेड कांस्टेबल दिनेश कुमार की एक टीम बनाकर घटनास्थल के लिए रवाना कर दिया गया। पुलिस टीम ने मौके की घेराबंदी कर ली, और जीशान खान पुत्र लियाकत निवासी बावन बुजुर्ग बल्ला थाना महराजगंज, सलाउद्दीन उर्फ सल्लू पुत्र फैमुद्दीन निवासी कुंडौली थाना बछरावां, तथा यावर खान पुत्र इलियास खान निवासी सलेमपुर थाना हरचंदपुर को गिरफ्तार कर लिया गया।

    बकौल पुलिस दौराने तलाशी अपराधियों के पास से 8 ग्राम अवैध स्मैक, एक अदद पिस्टल 32 बोर व एक जिंदा कारतूस 32 बोर तथा एक अदद तमंचा 315 बोर एक जिंदा कारतूस 315 बोर, तीन अदद मोबाइल टॉर्च, रस्सी, कटर, मारुति सुजुकी कार संख्या यूपी 33 Y 9098 तथा ₹900 नगद प्राप्त हुए। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्त सलाउद्दीन उर्फ सल्लू पेशेवर अपराधी है। जनपद के विभिन्न थानों में उसके विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट से लेकर सीएलए एक्ट आदि सहित आधा दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हैं।

    पुलिस ने यह भी बताया कि, 2 जून 2021 को हरचंदपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत जो फायरिंग हुई थी, उसमें यह अपराधी संलिप्त था। पुलिस द्वारा गिरफ्तार अभियुक्तों को संबंधित धाराओं में जेल भेज दिया गया है।

इनसेट……बदले की भावना, निराशा, अहंकार, नशा व लालच,, चाहे वह धन का हो, या स्त्री का, व्यक्ति को अपराध की ओर धकेलता है। परंतु किसी भी अपराधी का अपराध तब और फलता फूलता है, जब उसे गुमराह करने वाले, उसे इस्तेमाल करने वाले लोग मिल जाते हैं, और अगर उस पर राजनैतिक संरक्षण भी प्राप्त हो जाए, तो फिर क्या कहना! वह दुर्दांत अपराधी बन जाता है! वह “विकास दुबे’ जैसा बन जाता है। लेकिन यूपी के रायबरेली जिला के थाना बछरावां में जब तक थाना इंचार्ज राकेश सिंह, उप निरीक्षक अनिल सिंह जैसे निर्भीक और इमानदार पुलिस अफसर तैनात हैं, तब तक यहां यह बात लागू नहीं होती है। अपराधी चाहे जितना भी शातिर क्यों ना हो, वह बछरावां पुलिस की पकड़ से ज्यादा दिन दूर नहीं रह सकता है। या तो वे अपराध करना बंद कर दे, या फिर क्षेत्र छोड़कर कहीं दूर चले जाएं, नहीं तो उसकी जगह सलाखों के पीछे होगी।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *