Tokyo Olympics Countdown : कैसे रैंकिंग के दम पर दुती चंद को अब भी मिल सकता है तोक्यो ओलिंपिक का टिकट, जानें इस स्टार स्प्रिंटर की जुबानी

भारतीय महिला स्टार स्प्रिंटर दुती चंद (Dutee Chand) के पास तोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) के लिए क्वॉलीफाई करने के अब सिर्फ दो रास्ते ही बचे हैं। पहला इस महीने पटियाला में आयोजित होने वाली इंटर स्टेट सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप के जरिए और दूसरा रैंकिंग की बदौलत उन्हें खेलों के इस महाकुंभ का टिकट मिल सकता है। हालांकि 2018 एशियन गेम्स में 100 और 200 मीटर रेस में सिल्वर मेडल जीत चुकीं दुती के लिए यह आसान नहीं होगा।

एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (AFI)की ओर से यह चैंपियनशिप 25 से 29 जून तक आयोजित की जाएगी। इस चैंपियनशिप में श्रीलंका और बांग्लादेश के अलावा कई विदेशी ऐथलीट भी हिस्सा लेंगे।

 

25 वर्षीय दुती ने कहा, ‘ मैं इस समय पटियाला तीन महीने से नेशनल कैंप में हूं। मेरी कोशिश रहेगी कि मैं इस चैंपियनशिप के जरिए तोक्यो ओलिंपिक का टिकट हासिल करूं। हर एथलीट की तरह मेरा भी सपना ओलिंपिक में पदक जीतना है। मैं कड़ी मेहनत कर रही हूं।’

रवानगी से एक दिन पहले हुआ विदेश जाना हुआ कैंसिल
दुती को इसी महीने कीर्गिस्तान और कजाकिस्तान के अल्माटी में टूर्नामेंट में हिस्सा लेने जाना था। इसके लिए उनका वीजा भी लग चुका था लेकिन दौरे पर रवाना होने से एक दिन पहले उन्हें फेडरेशन की ओर से बताया गया कि वह अब इन टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले सकेंगी। इसको लेकर दुती बेहद दुखी हैं।

बकौल दुती, ‘मुझे तोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वॉलफाई करने के ज्यादा मौके नहीं मिले। पिछले एक साल से मैं किसी विदेशी टूर्नामेंट में नहीं खेल सकी हूं। 9 जून को मुझे किर्गिस्तान और कजाकिस्तान में टूर्नामेंट खेलने के लिए जाना था लेकिन वहां रवानगी से एक दिन पहले बताया गया कि हम वहां नहीं जाएंगे, क्योंकि कोरोनावायरस महामारी (COVID-19) की वजह से वहां की सरकारें भारतीयों को अपने यहां आने की इजाजत नहीं दे रही हैं। मुझे लगता है कि यदि मुझे देश के बाहर टूर्नामेंट खेलने को मिलते तो मैं पहले ही तोक्यो का टिकट कटा चूकी होती।’

तोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाइंग मार्क 11.15 सेकेंड है
इससे पहले भारतीय एथलेटिक्स टीम का पोलैंड दौरा भी कोरोना की वजह से कैंसिल हो गया था। तोक्यो ओलिंपिक के लिए 100 मीटर स्पर्धा के लिए क्वॉलिफाइंग मार्क 11.15 सेकेंड है जबकि 200 मीटर रेस में यह 22.80 सेकेंड है।

रैंकिंग के जरिए भी मिल सकता है तोक्यो ओलिंपिक में एंट्री
दुती का कहना है कि वह रैंकिंग के जरिए भी तोक्यो ओलिंपिक (2020 Tokyo Olympics) के लिए क्वॉलिफाई कर सकती हैं। इस समय दुती की वर्ल्ड रैंकिंग 40 है। तोक्यो ओलिंपिक के लिए रैंकिंग में टॉप के 56 एथलीटों को मौका मिलेगा। हालांकि ओलिंपिक से पहले विदेश में कई टूर्नामेंट आयोजित होने हैं। उनमें जो एथलीट अच्छा प्रदर्शन करेंगे उससे रैंकिंग प्रभावित होगी। ऐसे में दुती को यहां नुकसान उठाना पड़ सकता है क्योंकि इस दौरान वह किसी टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लेंगी।’

23 जुलाई से 8 अगस्त होना है तोक्यो ओलिंपिक का आयोजन

तोक्यो ओलिंपिक का आयोजन 23 जुलाई से 8 अगस्त तक होगा। इसके लिए फाइनल कट ऑफ मार्क लिस्ट 29 जून को जारी होगी। अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानितदुती ने रियो ओलिंपिक में हीट में 11.56 सेकेंड का समय निकाला था। हालांकि वह सेमीफाइनल के लिए क्वॉलिफाई नहीं कर सकी थीं। रियो ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाइंग मार्क 11.30 सेकेंड था।

स्पॉन्सर ने भी की कोशिश लेकिन नहीं मिला कोई टूर्नामेंट

नेशनल रेकॉर्ड कायम कर चुकीं दुति ने कहा कि उन्होंने स्पॉन्सर ने भी उन्हें विदेश में टूर्नामेंट के लिए भेजने के भरसक प्रयास किए लेकिन उन्हें भी सफलता हाथ नहीं लगी। दुती ने कहा, ‘ मेरे निजी स्पॉन्सर (PUMA) ने भी मुझे विदेश भेजने की कोशिश की लेकिन वह भी इसमें कामयाब नहीं हो सके।’

वर्ल्ड यूनिवर्सियाड में 100 मीटर इवेंट में गोल्ड जीतकर रचा था इतिहास

ओडिशा की दुती नैपोली में यूनिवर्सियाड प्रतियोगिता में 100 मीटर में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय एथलीट हैं। दुती के नाम 11.24 सेकेंड का नेशनल रेकॉर्ड है। वह विश्व स्तर पर 100 मीटर में गोल्ड जीतने वाले पहली भारतीय हैं। दुती ने 2018 जकार्ता एशियाई खेलों के 100 और 200 मीटर इवेंट में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था। एशियन जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 200 मीटर और 4गुणा 400 मीटर में दुती के नाम गोल्ड मेडल है। 2016 साउथ एशियन गेम्स में दुती ने 100 मीटर में सिल्वर और 200 मीटर में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *