गिरीश मालवीय
एक देश में एक कार्टूनिस्ट से सरकार डरती है सरकार दबाव बनाती है कि उस कार्टूनिस्ट को उसका संस्थान नोकरी से बेदखल कर दे, ………यहां ओर किसी देश की बात नही हो रही !…..
हम भारत की बात कर रहे हैं
हम मोदी सरकार की बात कर रहे हैं
हम कार्टूनिस्ट मंजुल की बात कर रहे है
आज देश के जानेमाने कार्टूनिस्ट मंजुल को उनके संस्थान नेटवर्क 18 ने “तत्काल प्रभाव” से निलंबित कर दिया है
पिछले दिनों ट्विटर को उनके ट्विटर अकाउंट के खिलाफ भारत सरकार से शिकायत मिली थी…….इस बारे मे मंजुल ने अपने ट्विटर एकाउंट पर ट्विटर की तरफ से आए एक ईमेल को शेयर करते हुए इस बात की जानकारी दी थी कि भारतीय लॉ एनफोर्समेंट की तरफ से शिकायत मिली है कि उनका कंटेंट भारतीय कानून का उल्लंघन है.
आखिर मंजुल क्या गलत कर रहे थे ?
एक कार्टूनिस्ट को ऐसे दौर में जो करना चाहिए वो वही तो कर रहे थे!……. वे अपने व्यंगचित्रो के जरिए सरकार को आइना दिखा रहे थे ……मीडिया का असली काम है आम पाठकों की चेतना को झकझोर कर जनमत का निर्माण करना, निष्पक्ष व निर्भीक रहकर सच को उद्घाटित करना पत्रकारिता के दायित्व हैं……मंजुल अपना दायित्व ही निभा रहे थे…… लेकिन यह न्यू इंडिया है………
2008 से 2014 के दौर में प्रिंट व इलेक्ट्राॅनिक मीडिया पर अम्बानी जैसे काॅरपोरेट घरानों का कब्जा इसलिए ही तो करवाया गया था कि मोदी का माहौल बनाया जा सके ….अब ऐसे में मंजुल जैसे अदना मुलाजिम उसकी निर्मम सत्ता की असली तस्वीर जनता को दिखा रहे हैं तो यह गुनाह बर्दाश्त कैसे किया जा सकता है……

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *