सौमित्र रॉय
न खाऊंगा, न खाने दूंगा का जुमला फेंकने वाले नरेंद्र मोदी के खास दोस्त अडाणी के 3 विदेशी खातों को नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड ने सील कर दिया है।
विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने इन खातों में 43500 करोड़ रुपये जमा करवा रखे हैं। इसका मतलब क्या? सील होने के बाद न तो FPI प्रतिभूतियां बेच सकेंगे, न खरीद सकेंगे।
ऐसा क्यों हुआ?
ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि अडाणी ग्रुप मोदी राज में कालाधन कमाकर लगातार अमीर बनता जा रहा है।
ये तीनों खाते मॉरीशस में हैं। अडाणी ग्रुप पर आरोप है कि उसने निवेशकों की असली पहचान के कागजात जमा नहीं किये। सेबी ने इससे पहले भी KYC से जुड़ी ज़रूरतों के बारे में चेतावनी देते हुए अडाणी ग्रुप से कागज़ात जमा करने को कहा था। अडाणी ने कोई जवाब नहीं दिया।
जब भारत का प्रधानमंत्री बीते 7 साल में मीडिया के एक भी सवाल का जवाब नहीं देता तो उसका दोस्त क्यों दे? जवाब भी क्या हो, जब पैसा ही कालेधन के रूप में निवेश हुआ हो? 😂😂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *