WTC Final India vs New Zealand- भारत के पास न्यूजीलैंड के मुकाबले ज्यादा दमदार खिलाड़ी: EXCLUSIVE इंटरव्यू में सुनील गावसकर

सुनील गावसकर को किसी परिचय की जरूरत नहीं है। टेस्ट क्रिकेट में 10122 रन, 34 शतक के अलावा वह 1983 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य थे। इसके अलावा उन्होंने 1985 के ऑस्ट्रेलिया में खेली गई बेनसन ऐंड हेजेज की वनडे टूर्नमेंट में भारत की अगुआई की। भारत ने इस टूर्नमेंट में जीत हासिल की। यह महान खिलाड़ी इस समय वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल की कॉमेंट्री के लिए इंग्लैंड में हैं। यह मैच 18 जून से भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेला जाएगा।

गावसकर ने देखा है कि कैसे न्यूजीलैंड ने इस अहम मुकाबले से पहले इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैच खेले हैं। उन्हें पूरा यकीन है कि फिलहाल साउथैम्टन में तैयारी कर रही भारतीय टीम कड़ी चुनौती पेश करेगी। पूर्व सलामी बल्लेबाज ने हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया के भारत के चांस और अन्य मुद्दों पर बात की।

भारतीय टीम कुछ दिनों में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेलेगी। आपके हिसाब से कौन फेवरिट होगा और क्यों?
मेरी नजर में यह बराबरी का मुकाबला है। कुछ लोगों का मानना है कि न्यूजीलैंड ने पहले दो टेस्ट मैच खेले हैं और इसका उसे फायदा होगा। लेकिन वहीं दूसरी ओर भारत मैच खेलने के लिए लालायित होगा। और साथ ही एक महीने से खेल से दूर रहने के बाद वह पूरी तरह तरोताजा होंगे। भारत के पास बल्ले और गेंद से प्रभाव छोड़ने वाले अधिक खिलाड़ी हैं। और मुझे लगता है कि भारत को ही मैच जीतना चाहिए।

स्विंग का सामना करना काफी अहम होगा और भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के खिलाफ न्यूजीलैंड में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था. क्या आपको लगता है कि न्यूजीलैंड भारत के लिए मुश्किल पैदा कर सकता है?
भारत को न्यूजीलैंड में परेशानी का सामना करना पड़ा था लेकिन जब मौसम में नमी और ठंड नहीं है, भारतीय टीम इंग्लैंड में स्विंग का अच्छी तरह सामना कर सकती है।

शुभमन गिल और रोहित शर्मा दोनों आक्रामक खिलाड़ी हैं। दोनों शरीर से दूर शॉट खेलते हैं। क्या आपको लगता है कि इंग्लिश परिस्थितियों में कम से कम एक सलामी बल्लेबाज ऐसा हो जो अधिक परंपरागत तरीके से बल्लेबाजी करता हो?
आप ही बताइए इन दोनों में से किस पर आप किसी दूसरे खिलाड़ी को तरजीह देंगे? फिलहाल दोनों भारतीय टीम का अहम हिस्सा हैं और हर मैच के बाद ये बेहतर होते जा रहे हैं। तो मुझे इसके बिलकुल भी चिंता नहीं है।

 

न्यूजीलैंड ने वर्ल्ट टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल से पहले दो मैच खेले हैं। क्या वह भारत के मुकाबले बेहतर तैयारी में है?
यह एक दोधारी तलवार हो सकती है। दूसरे टेस्ट और WTC फाइनल के बीत दो टेस्ट मैचों का अंतर होने पर कुछ अधिक उम्र के खिलाड़ियों को जरा सा खिंचाव आदि हो सकता है। इसका असर उनके प्रदर्शन पर पड़ सकता है।

न्यूजीलैंड को अचानक डेवॉन कॉन्वे के रूप में एक सलामी बल्लेबाज मिला है। उन्होंने अपने पहले ही मैच में शानदार दोहरा शतक लगाया इस पर आपकी क्या राय है?
मैंने उन्हें बल्लेबाजी करते नहीं देखा लेकिन अगर किसी ने बड़ा दोहरा शतक लगाया है तो जाहिर सी बात है कि वह एक अच्छा खिलाड़ी होगा। लेकिन भारतीय गेंदबाजी आक्रमण में इंग्लैंड के मुकाबले ज्यादा विविधता है तो कॉन्वे के लिए यह आसान नहीं होगा। हालांकि, मैं देखना चाहूंगा कि कॉन्वे भारतीय गेंदबाजी आक्रमण का कैसे सामना करते हैं।

साउथैम्टन की पिच पर मैच अगर चौथे दिन जाए तो स्पिनर्स के लिए मददगार हो सकता है। क्या आपको लगता है कि दो स्पिनर्स, रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा, इस मैच में अंतर डाल सकते हैं?
बेशक, दोनों को इस मैच में अहम भूमिका निभानी होगी। दोनों की बल्लेबाजी में आए बड़े सुधार को देखना भी काफी खुशी की बात है, इससे ऋषभ पंत नंबर छह पर बल्लेबाजी कर सकते हैं जिससे दो ऑलराउंडर्स और तेज गेंदबाजों को मौका मिल सकता है।

virat-kane

विराट कोहली और केन विलियमसन (फाइल फोटो)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *