सांसदों को स्वादिष्ट खाना भी संसद भवन में ही मिलता है वो भी बेहद कम कीमत पर, हमारे इन 543 माननीयों को तमाम सुविधाएं उसी दिन से मिलनी शुरू हो जाती है, जब चुनाव आयोग आधिकारिक रूप से नतीजे घोषित कर देता है।
सांसदों को मिलने वाले वेतन और विभिन्न मदों के तहत मिलने वाले भत्तों पर अगर गौर करें, तो कई आश्चर्यजनक तथ्य सामने आते है। सांसदों को हर तीन महीने में 50 हजार रुपए (यानी औसतन 600 रुपए रोज) महज इसलिए मिलते हैं, ताकि वे अपने घर के परदे और अन्य कपडे धलना सकें।

ये सुविधाएं और भत्ते मिलते हैं हमारे गरीब सांसदों को
» लोकसभा और राज्यसभा के प्रत्येक सदस्य को, जब पूरे समय संसद में काम होता है, प्रतिमाह वेतन मद में 50 हजार रुपए मिलते हैं।
» यदि कोई सांसद प्रतिदिन संसद के रजिस्टर में साइन करता है, तो उसे 2000 रुपए प्रतिदिन का भत्ता मिलता है।
» अपने लोकसभा क्षेत्र में रहते हुए भी संसद सदस्यों को प्रतिमाह 45 हजार रुपए भता मिलता है।
» संसद की लोकल एरिया डेवलपमेंट स्कीम (एमपीलैड्स) के तहत प्रत्येक सदस्य को अपने संसदीय क्षेत्र में विकास कार्यो के लिए 5 करोड़ रुपए मिलते हैं, जिसके लिए वे स्थानीय प्रशासन से अनुशंसा कर सकते हैं।

यात्रा सुविधाएं
» प्रत्येक संसद सदस्य यात्रा भत्ते का भी हकदार होता है। एक सांसद को तब भी यात्रा भत्ता मिलता है, जब वह अपने घर जा रहा हो।
» हवाई यात्रा हवाई यात्रा का 25 फीसदी ही देना पड़ता है। इस छूट के साथ एक सांसद सालभर में 34 हवाई यात्राएं कर सकता है। यह सुविधा सांसद के पति/पत्नी, दोनों के लिए है।
» ट्रेन यात्रा: एक सांसद किसी भी ट्रेन के फर्स्ट क्लास एसी में अहस्तांतरणीय टिकट पर यात्रा कर सकता है। इसके लिए उन्हें विशेष पास मुहैया कराया जाता है।
» सड़क यात्राः इसके अलावा एक सांसद सड़क मार्ग से यात्रा करना चाहे तो उसे 16 रुपए प्रति किलोमीटर के हिसाब से यात्रा भत्ता भी मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *