◆चौकी इंचार्ज ने औरंगाबाद की रहने वाली विक्षिप्त महिला व उसकी बेटी को परिजनों से मिलाया।

शिवाकांत अवस्थी

महराजगंज/रायबरेली: समाज में आए दिन होने वाले अपराध या फिर किसी भी घटना में जरा सी चूक होने पर पुलिस महकमा तुरंत सवालों के कठघरे में आ जाता है। हालांकि आज के इस आधुनिक युग में पुलिस के निंदनीय या प्रशंसनीय कार्य को सुर्खियां बनने में भी देर नहीं लगती। नागरिकों की सुरक्षा के मंतव्य से काम करने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस अपनी गुड इमेज (अच्छी छवि) को बरकरार रखने का पूरा प्रयास करती है। इसी कड़ी में रायबरेली जनपद की महराजगंज कोतवाली के थुलवासा चौकी इंचार्ज का एक और सराहनीय कार्य जुड़ चुका है। दरअसल, विगत दिनों महाराजगंज क्षेत्र में भटक रही   महुवावं थाना ओबरा जनपद औरंगाबाद बिहार की रहने वाली अनीता देवी पत्नी सुरेंद्र साहू व बेटी शोभा पुत्री सुरेंद्र जो की दोनों मानसिक विक्षिप्त है, चौकी इंचार्ज ने न केवल मां बेटी को उसके परिवार से मिलाया बल्कि घर लौटते समय उन्हें उपहार और खर्चे के लिए कुछ पैसे देकर ससम्मान विदा भी किया।

   आपको बता दें कि, थुलवासां चौकी का कुशल नेतृत्व कर रहे चौकी इंचार्ज आशीष तिवारी  लगातार अपराध एवं अपराधियों पर प्रभावी अंकुश लगाने के साथ साथ उनके द्वारा किए जा रहे प्रशंसनीय कार्यो के भी इन दिनों चर्चे हैं, जनपद औरंगाबाद बिहार की रहने वाली एक मानसिक विक्षिप्त मां और उसकी बेटी को सकुशल उनके परिजनों से मिलवाया। महुवावं थाना ओबरा जनपद औरंगाबाद बिहार की रहने वाली अनीता देवी पत्नी सुरेंद्र साहू अपनी बेटी शोभा जो की दोनों मानसिक विक्षिप्त है,  कुछ दिनों पहले अपने माइके जनपद बरेली के लिए निकली थी, जो गलती से बरेली की जगह रायबरेली की ट्रेन पर बैठ गई और यहां पहुंच गई। यहां आकर मां से उसकी बेटी शोभा भी एक दूसरे से बिछड़ गई।

    विगत दिनों ग्रामीणों द्वारा चौकी इंचार्ज थुलवासां आशीष तिवारी को सूचना दी गई कि, एक महिला लवारिस हालत में क्षेत्र में घूम रही है, मौके पर पहुंचकर चौकी इंचार्ज ने महिला से उसका नाम पता पूछा, तो उसने अपना नाम अनीता निवासी उपरोक्त बताया। जिसे बीते एक जून को चौकी इंचार्ज द्वारा अनीता के परिजनों से सम्पर्क साधकर उसे  सकुशल उसके मूल पते पर भेज दिया गया था। उधर अपनी मां और परिजनों से बिछड़ी मानसिक विक्षिप्त शोभा भी भूखीं प्यासी इधर उधर भटकती रही,  और संयोग से भटकते हुए वह विगत दिनों थुलवासां चौकी क्षेत्र में आ पहुंची। जिसकी सूचना ग्रामीणों ने चौकी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस द्वारा शोभा को चौकी लाया गया, जहां चौकी इंचार्ज ने सबसे पहले उसे पानी दिलवाया, उसके बाद उसे पेट भर भोजन कराया, फिर मानसिक विक्षिप्त शोभा के परिजनों से संपर्क कर उन्हें शोभा के मिलने की सूचना दी। जब तक शोभा के परिजन यहां नहीं पहुंच गए, तब तक के लिए रहने खाने का इंतजाम कोतवाली में उनके द्वारा करा दिया गया।

    आज बुधवार को कोतवाली पहुंचे मानसिक विक्षिप्त शोभा के चाचा चंद्रेश्वर प्रसाद को सकुशल उसे सौंप दिया गया। परिजनों को देखकर मानसिक विक्षिप्त शोभा भावुक हो उठी, और अनायास ही उसकी आंखों से खुशी के आंसू बह निकले। वहीं दूसरी ओर यहां पहुंचे शोभा के चाचा ने चौकी इंचार्ज व महराजगंज कोतवाली की समस्त टीम का आभार जताया और भूरि भूरि प्रशंसा की।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *