क्रेडिक कार्ड धारकों का डेटा चोरी कर ठगी करने वाले गिरोह को बेचते थे, STF ने किया गिरफ्तार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने जनवरी में क्रेडिट कार्ड धारकों के साथ ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। थोड़े दिनों बाद ही ठगी करने वाले गिरोह को कार्ड धारकों का डेटा बेचने वाले गैंग का भी भंडाफोड़ा था। डेटा चोरी करने वाली गैंग का सरगना नदीम काफी दिनों से फरार चल रहा था। जिस पर 20 हजार का इनाम भी घोषित किया था। बुधवार रात उसे और उसके 2 साथियों को दिल्ली व नोएडा से गिरफ्तार किया गया है।

गुरुवार को एसटीएफ ने बताया कि यूपी में लगातार क्रेडिट कार्ड धारकों के साथ ठगी किए जाने की शिकायतें मिल रही थीं। जिसके बाद एसटीएफ ने नोएडा टीम को सक्रिय किया तो बीते 26 जनवरी को मर्चेंडाइस साइट (Merchandise Site) कम्पनी बनाकर विभिन्न बैकों के क्रेडिट कार्ड धारकों का डेटा चोरी कर करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ था। इस दौरान गिरोह के सरगना सौरभ भारद्वाज समेत 4 अभियुक्तों आस मोहम्मद, लखन गुप्ता और शिवम गुप्ता को गिरफ्तार किया गया था। इनके पास से 6 हजार लोगों का डेटा मिला था।

फरवरी में 2 को किया गया था गिरफ्तार
वहीं बीते 8 फरवरी को गिरोह को बड़े पैमाने पर क्रेडिट कार्ड धारकों का डेटा बेचने वाली 25 हजार की इनामिया अभियुक्ता शिल्पी और उसके एक साथी को भी गिरफ्तार किया गया था, जिनके पास से 7 हजार क्रेडिट कार्ड धारकों का डेटा बरामद हुआ था। अभियुक्तों ने पूछताछ के दौरान नदीम के नाम का जिक्र किया था, तभी से नदीम की तलाश जारी थी। बुधवार को नदीम, उसके साथी सिद्धार्थ देवनाथ और पुनीत लाखा को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

बड़ी मात्रा में मिला डेटा
गिरफ्तार किए गए जालसाज नदीम अहमद ने पूछताछ के दौरान बताया कि वह महज 12वीं पास है। वह पूर्व में बैंकों में टीम लीडर के तौर पर काम कर चुका है वहीं, उसके ठगी करने वाले गिरोह के लोगों और कार्ड धारकों का डाटा चोरी करने वाले सदस्यों के साथ मुलाकात हुई थी, तभी से वह इस पेशे में आ गया। नदीम अहमद के पास से 7,182 क्रेडिट कार्ड कस्टमर का डेटा बरामद हुआ है। छानबीन के दौरान पता चला है कि लगभग 450 लोगों के साथ करोड़ों की ठगी की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *