गेहूं खरीद की हकीकत… सड़ने की कगार पर है अनाज, 10 दिनों से नहीं हुई खरीदी

गाजीपुर के करंडा ब्लॉक के लखनचंदपुर में बने गेहूं क्रय केंद्र के कर्मचारियों की उदासीनता के कारण पिछले दस दिनों से टोकन लेकर किसान खरीद किए जाने का इंतजार कर रहे हैं। किसानों की फसल ट्रैक्टर पर लदे होने से भींगने के बाद खराब होने की कगार पर है। किसानों ने जिलाधिकारी से मिलकर इसके बारे में जानकारी दी है।

खरीद के इंतजार में किसान परेशान
करंडा ब्लॉक के लखनचंदपुर क्रय केंद्र पर लगभग 10 जून से किसान अपने टोकन के साथ ट्रैक्टर पर गेहूं लादकर खरीद का इंतजार कर रहें हैं। जिन किसानों का गेहूं 11 जून से 15 जून के बीच खरीदा जाना था, उन्हें भी निराशा हाथ लगी। इस मसले पर क्रय केंद्र के इंचार्ज का कहना है कि केंद्र पर 15 जून से क्रय बंद कर दिया गया है। हालांकि, यूपी सरकार ने क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद की तारीख बढ़ा कर 22 जून तक कर दी है। जिन किसानों का गेहूं 15 जून से पहले खरीदा गया है, उनके खाते में पैसे अभी ट्रांसफर नहीं किए गए हैं। इसके लिए भी किसानों ने खरीद केंद्र के कर्मचारियों को जिम्मेदार ठहराया हैं।

किसानों का कहना है कि उनकी खरीद की डेटा एंट्री नहीं की गई है। इससे उनके पेमेंट को खातों में ट्रांसफर नहीं किया जा सका है। वहीं, पिछले 10 दिनों से अपनी बारी का इंतजार कर रहे किसानों की फसल खराब होने की कगार पर आ गई है। ट्रैक्टर पर लदे गेहूं बारिश में भीगकर अंकुरित होने लगे हैं।

डीएम ने दिया समाधान
अपनी समस्या को लेकर किसान शुक्रवार को डीएम कार्यालय पहुंचे। अपनी परेशानी को जिलाधिकारी से किसानों ने कहा कि अगर उनके गेहूं को नहीं खरीदा जाता है तो मजबूरन अपने गेहूं को जिला मुख्यालय लाकर कलक्ट्रेट परिसर के सामने पार्क में फेंकने को मजबूर होंगे। किसानों की परेशानी का संज्ञान लेते हुए डीएम एमपी सिंह ने किसानों को बताया कि उनके गेहूं की खरीद करंडा क्रय केंद्र पर नहीं हो सकती है, क्योंकि वह क्रय केंद्र बंद हो गया है, लेकिन किसानों के गेहूं की खरीद मंडी समिति के जरिए सरकारी दर पर करवाई जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *