Longest Test Match Ever: जब 12 दिनों तक चला था टेस्ट मैच, फिर भी नहीं ड्रॉ पर हुआ था खत्म

आमतौर पर टेस्ट क्रिकेट पांच दिनों का होता है लेकिन दो विश्व युद्ध के दौरान टेस्ट क्रिकेट लंबे समय तक चलता था और एक बार यह 12 दिनों तक चला। यह मुकाबला मार्च 1939 में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच डर्बन में हुआ था। रेस्ट डे और वाशआउट के बाद यह मुकाबला 12 दिनों बाद ड्रॉ पर समाप्त हुआ। यह मुकाबला इस सीरीज का पांचवां और अंतिम मैच था।

इंग्लैंड इस सीरीज में 1-0 से आगे था। पहले दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने दो विकेट पर 229 बनाए थे और दूसरे दिन उसने छह विकेट पर 423 रन बनाए थे। तीसरा दिन रविवार होने के कारण रेस्ट डे था, जबकि चौथे दिन दक्षिण अफ्रीका की पारी 530 रन पर सिमट गई। दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने जवाब में एक विकेट पर 35 रन बनाए थे।

पांचवें दिन इंग्लैंड ने सात विकेट पर 268 रन बनाए। इसके बाद मेहमान टीम की पहली पारी 316 रन पर ऑलआउट हुई और दक्षिण अफ्रीका को 214 रनों की बढ़त मिली। छठे दिन दक्षिण अफ्रीका ने दूसरे सत्र तक तीन विकेट पर 193 रन बनाए और अपनी बढ़त को मजबूत किया। टीम की दूसरी पारी 481 रन पर ऑलआउट हुई और उसने इंग्लैंड को जीत के लिए 696 रनों का लक्ष्य दिया।

आठवें दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने एक विकेट पर 253 रन बनाए थे। 9वें दिन का खेल बारिश के कारण पूरी तरह धुल गया। 10वां दिन रविवार होने के कारण रेस्ट डे रहा। 11वें दिन इंग्लैंड ने तीन विकेट पर 496 रन बनाए थे और उसे जीत के लिए और 200 रनों की आवश्यकता थी। यह वो दिन था जब यह इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच किंग्स्टन में 1930 में खेले गए मैच को पीछे छोड़ते हुए यह सबसे लंबा चलने वाला मुकाबला बना।

इंग्लैंड की टीम को ट्रेन से कैप टाउन जाना था जहां उसे बोट पकड़नी थी जिसके कारण 12वें दिन को मैच का अंतिम दिन घोषित किया गया क्योंकि इसी दिन शाम को इंग्लैंड के खिलाड़ियों को रवाना होना था। आखिरी दिन इंग्लैंड ने चायकाल तक पांच विकेट पर 654 रन बनाए थे और उसे जीत के लिए महज 42 रनों की जरूरत थी, जबकि उसके पांच विकेट शेष थे। लेकिन इसके बाद जोरदार बारिश होने लगी और मुकाबला आगे नहीं कराया जा सका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *