राजनीतिक मतभेद के चलते गुजरात के सूरत में एक युवा इंजिनियर जोड़े का तलाक हो गया । पत्नी रुता आम आदमी पार्टी की नगर पार्षद है तो वहीं पति चिराग बीजेपी का नेता । इस जोड़े ने हाल ही में आपसी समझौता कर तलाक ले लिया। लेकिन दोनों के बीच विवाद अभी जारी है, पूरा मामला क्‍यों सुर्खियों में आगे जाने ।
26 साल की आप पार्षद रुता दूधागरा, फिलहाल पति चिराग के खिलाफ कानूनी विकल्प तलाश रही हैं । वो अपने निजी सामान जैसे स्कूल और कॉलेज की मार्कशीट, पहचान दस्तावेज, उनके पार्षद से संबंधित दस्तावेज, उनकी मोपेड और लैपटॉप समेत वापस चाहती हैं । आप पार्षद, पेशे से इंफॉर्मेशन टेक्नॉलजी इंजीनियर हैं ।
रुता ने बताया- ‘मेरे पति पिछले कुछ महीनों से बेरोजगार थे, इसलिए मैंने उन्हें 7 लाख रुपये का भुगतान किया और उन्होंने मेरे 90 ग्राम से अधिक वजन के सोना भी ले लिया। मैं मानती हूं कि नकद भुगतान सेपरेशन के लिए था, लेकिन अब मैं अब मेरे दस्तावेजों को लेने के लिए कानूनी विकल्प तलाश रही हूं।’
रुता और चिराग की शादी तीन साल ही हुई है, चिराग खुद भी एक कंप्यूटर इंजिनियर हैं । इस दंपती की फिलहाल कोई संतान नहीं है । आपको बता दें रुता को 54,754 वोट मिले थे, उन्होंने फरवरी में वार्ड 3, सरथाना-सिमाडा से बीजेपी उम्मीदवार को हराया है ।
रुता ने बताया कि- ‘मेरे पति के साथ मेरे एक साल से अधिक समय से मतभेद थे, लेकिन हम किसी तरह अडजस्ट कर रहे थे। लेकिन मेरी जीत के कुछ हफ्तों के भीतर ही मेरे पति ने मुझ पर बीजेपी में शामिल होने का दबाव बनाना शुरू कर दिया। उन्हें इसके लिए करोड़ों का प्रस्ताव मिला होगा, लेकिन मैं आम आदमी पार्टी छोड़ने नहीं जा रही हूं।’
आप पार्षद ने आपबीती सुनाते हुए कहा, ‘इस विवाद में अप्रैल में मुझे चिराग ने भी पीटा था जिसके बाद मैंने अलग होने का फैसला किया। वह अब भी मुझे धमकियां दे रहा है और मेरे दस्तावेज भी वापस नहीं किए। इसलिए, मैं अब कानूनी विकल्प तलाश रही हूं।’
आपको बता दें, यहां हुए नगरपालिका के चुनाव में , आम आदमी पार्टी ने शहर के पाटीदार बहुल इलाकों में भाजपा के 93 के मुकाबले 27 सीटें जीती थीं। बहरहाल, पारिवारिक मतभेदों के कारण तो घर टूटने की कई घटनाएं सामने आती रही हैं, ये शायद पहला मामला होगा जहां राजनीतिक मतभेदों ने युवा दंपति को एक दूसरे से अलग कर दिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *