यूपी ATS की अवैध घुसपैठियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी, 4 रोहिंग्या गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक के निर्देश पर चलाए जा रहे अभियान में यूपी एटीएस को इसी महीने लगातार तीसरी सफलता मिली है। अवैध रूप से म्यांमार के रोहिंग्याओं को बांग्लादेश और भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा में अवैध दस्तावेजों के आधार पर नागरिकता दिलाने वाले गिरोह के सक्रिय 4 सदस्यों को मेरठ, अलीगढ़ और बुलंदशहर से गिरफ्तार किया गया है।

बता दें कि बीते 8 जून को रोहिंग्याओं को फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नागरिकता दिलाने वाले गिरोह के सरगना नूर आलम को पूर्व में गिरफ्तार साले के बताए गए इनपुट के आधार पर एटीएस ने पकड़ा था। गिरफ्तार किए गए मास्टरमाइंड से की गई पूछताछ में सामने आया कि म्यांमार और बांग्लादेश के रिफ्यूजी कैम्प से लोगों को भृमित करके भारत में महिलाओं समेत कई लोगों को नागरिकता दिलाई जा चुकी है।

हवाला के जरिए होता था लेन-देन
अवैध तरीके से बसाए गए इन लोगों को ये गिरोह फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बहुत ही आसानी से नागरिकता दिला देता था। एडीजी कानून व्यवस्था ने बताया कि ये गिरोह महिलाओं की तस्करी भी करता था। ये गिरोह गलत दस्तावेजों के आधार पर रोहिंग्याओं को नौकरी दिलाकर मोटा कमीशन भी हथियाते था। साथ ही हवाला के जरिये कालेधन का आपसी अदान-प्रदान भी करते हैं। इन गिरफ्तार रोहिंग्याओं के पास से सोने जैसी धातुएं भी मिली हैं।

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले रोहिंग्याओं को मूल निवासी घोषित करने का था प्लान
एडीजी ने बताया कि यूपी एटीएस टीम ने अब तक देश में सबसे ज्यादा 15 रोहिंग्याओं को गिरफ्तार किया है। ये गिरोह पिछले लंबे समय से सक्रिय था। गिरफ्तार किए गए रोहिंग्याओं से की गई पूछताछ में पता चला है कि रिफ्यूजी कैम्पों से लाए गए लोगों को उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से पहले ही नागरिकता दिलाने की पूरी तैयारी थी। शुक्रवार को मेरठ, अलीगढ़ और बुलंदशहर से की गई गिरफ्तारियों में हाफिज शरीफ हबीबुल्लाह, अजीजुर्रहमान, मोहम्मद इस्माइल और मुफीजुर्रहमान पकड़े गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *