Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य नीति शास्त्र के बहुत बड़े ज्ञाता थे। उनकी ये नीतियाँ आज भी उतनी ही प्रासंगिक हैं जितनी तत्कालीन समय में थी। आचार्य चाणक्य ने जीवन के हर पहलू पर अपनी नीतियों का उल्लेख किया है। व्यक्ति उनकी नीतियों का अनुसरण करके अपने जीवन को सफल और सुखद बना सकते हैं।

घर बनवाते समय या खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान

धनी व्यक्ति का हो निवास – चाणक्य की नीति के अनुसार व्यक्ति को अपना घर उस स्थान पर खरीदना या बनवाना चाहिए, जहां पर धनी व्यक्ति निवास करते हों। ऐसे स्थानों पर व्यवसाय का वातावरण अच्छा होता है। धनी व्यक्ति के आस -पास रहने से रोजगार की संभावनाएं बहुत अच्छी होती हैं।

धार्मिक आस्था रखने वाले हों – चाणक्य नीति के अनुसार व्यक्ति को अपना घर वहीँ बनाना चाहिए जहां के लोग धर्म में आस्था रखते हों। लोगों में भय, डर और लज्जा हो। जहां के लोगों में भगवान, लोक, परलोक के प्रति आस्था होती है वहां समाज में आदर भाव होता है।

जहां कानून और समाज का भी हो – लोगों को अपना घर वहां बनाना चाहिए जहां के लोगों में कानून और समाज का भय रहता हो। ऐसे जगहों पर तो कतई नहीं रहना चाहिए जहां के समाज में न तो डर हो और नहीं ही कोई सामजिक नियम।

चिकित्सा सुविधा हो – चाणक्य नीति कहती है कि लोगों को वहां अपना घर बनाना चाहिए जहां पर चिकित्सक रहते हों। क्योंकि अचानक आई बीमारी का निदान यहां संभव होगा।

नदी – घर का निर्माण वहां करना चाहिए जहां पर नदी या तालाब हो। इससे यहां का वातावरण शुद्ध और साफ़ होता है। ऐसे वातावरण में हमेशा सकारात्मक उर्जा होती है जो व्यक्ति के उत्थान का मार्ग प्रशस्त करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *