STF को मिली बड़ी सफलता, जहरीली शराब से हुई 35 मौतों का जिम्मेदार फरार अभियुक्त गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ और अंबेडकरनगर में नकली शराब का कारोबार करके लोगों में मौत बांटने वाले इनामी अपराधी को स्पेशल टास्क फोर्स ने गिरफ्तार कर लिया है। यह अपराधी साथियों संग पिछले एक महीने से फरार चल रहा था।

बीते मई में आजमगढ़ और अंबेडकरनगर में मात्र 3 दिन के अंदर शराब पीने से 35 मौतें हुई थीं। छानबीन के बाद पाया गया कि ठेकों से पावरहाउस ब्रांड की शराब (wine) पीने के बाद ये मौतें हुई हैं। इस घटना की आजमगढ़ और अंबेडकरनगर के अलग-अलग थानों में कई मुकदमे दर्ज किए गए थे। पुलिस ने इस घटना में अपनी कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए छानबीन शुरू की। जब जांच में एसटीएफ (STF) की टीम शामिल हुई तो रणजीत यादव, रवि यादव और किशन यादव को इस घटना के पीछे मुख्य भूमिका में पाया गया। इसके बाद एसटीएफ ने इन अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए छापेमीरी शुरू कर दी।

स्प्रिट और सीरे से तैयार होती थी नकली शराब
बता दें कि गिरफ्तार अभियुक्त रवि यादव पर आजमगढ़ जिले के फूलपुर थाने में गैंगस्टर ऐक्ट की कार्रवाई हो चुकी है और पहले भी आबकारी अधिनियम के तहत कई मुकदमे दर्ज हैं। शुक्रवार रात गिरफ्तार किए गए रवि यादव ने एसटीएफ की पूछताछ में बताया कि वह आजमगढ़ के मुत्तुपुर ठेके का सेल्समैन था। नकली शराब के इस अवैध धंधे का असली मास्टरमाइंड रणजीत यादव है, जो स्प्रिट और सीरे से जहरीली नकली शराब तैयार करता है, उसके बाद उन पर अलग-अलग ब्रांड के रैपर और ढक्कन लगाकर शराब के ठेकों में सप्लाई करवाता है। पावरहाउस ब्रांड की शराब रणजीत यादव के कहने पर ही तैयार करवाई गई थी। इस धंधे में रणजीत यादव के साथ रवि और किशन यादव भी पूरी तरह से शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *