Tokyo Olympics 2020 Countdown:  सुनसान जंगलों से निकलेगा सोना, भारतीय महिला पहलवानों की तोक्यो ओलिंपिक की खास तैयारी

तोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) में जिन खेलों में भारत को पदक की उम्मीद है उनमें कुश्ती भी शामिल है। इस बार ओलिंपिक में रेकॉर्ड 4 महिला पहलवान अपनी किस्मत आजमाएंगी। पिछली बार रियो ओलिंपिक में देश की 3 महिला पहलवानों ने हिस्सा लिया था।

भारतीय महिला कुश्ती टीम के हेड कोच कुलदीप मलिक (Kuldeep Malik) महिला पहलवानों के शानदार प्रदर्शन के प्रति आश्वस्त हैं। कुलदीप का कहना है कि इस बार महिला वर्ग में जरूर पदकों की संख्या में इजाफा होगा।

कुलदीप मलिक ने कहा, ‘हमारी लड़कियां इस समय पोलैंड की राजधानी वारसॉ से 100 किलोमीटर दूर ट्रेनिंग कर रही हैं। इस समय जहां हमारा कैंप लगा है उसके चारों ओर घना जंगल है। यहां हम 27 जून तक ट्रेनिंग करेंगे। इसके बाद हम एस्टोनिया के लिए रवाना हो जाएंगे। वहां हमारा कैंप 10 जुलाई तक रहेगा।’

‘तोक्यो जाने वाली हमारी सभी महिला पहलवान पदक की दावेदार’
रियो ओलिंपिक में साक्षी मलिक (Sakshi Malik) ने भारत को ब्रॉन्ज मेडल दिलाया था। हालांकि इस बार साक्षी तोक्यो ओलिंपिक नहीं जा रही हैं। महिला पहलवानों में विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) पदक की होड़ में सबसे आगे हैं। रियो ओलिंपिक में मैच के दौरान विनेश का घुटना चोटिल हो गया था जिसके यह पहलवान ओलिंपिक से बाहर हो गई थी।

बकौल कुलदीप, ‘ हम सभी विनेश को अच्छी तरह जानते हैं। इसके अलावा सोनम (Sonam Malik) और अंशु मलिक (Anshu Malik) ने भी तोक्यो का टिकट कटाने से पहले कई प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन किए हैं। सोनम ने साक्षी जैसी दिग्गज पहलवान को मात दी है। सीमा बिस्ला ने भी कमाल का प्रदर्शन किया है। मुझे लगता है कि तोक्यो ओलिंपिक जाने वाली हमारी सभी लड़कियां पदक की दावेदार हैं।’

तोक्यो ओलिंपिक का टिकट कटाने वाली पहली रेसलर हैं विनेश
विनेश 53 किलोग्राम जबकि अंशु मलिक 57 किलोग्राम वर्ग में उतरेंगी। सोनम मलिक ने 62 वहीं सीमा बिस्ला ने 50 किलोग्राम वर्ग में दांव पेंच लगाती नजर आएंगी। विनेश ने वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के रेपचेज राउंड-2 मुकाबले में दुनिया की नंबर वन पहलवान अमेरिका की सारा हिल्डरब्रैंट को हराकर कांस्य पदक मुकाबले में जगह बनाते हुए तोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई किया था। वह तोक्यो का टिकट कटाने वाली पहली रेसलर बनी थीं।

‘ज्यादा जोर स्टेमिना और टेक्निक को दुरुस्त करने पर’

कुलदीप ने कहा, ‘ महिला पहलवानों में पदक जीतने की भूख है। वह हर हाल में ओलिंपिक (Tokyo Olympics 2020) में पदक जीतना चाहती हैं। उनका (पहलवानों) कहना है कि चाहे कुछ भी हो लेकिन वह इस मौके को भुनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ने वालीं हैं। ट्रेनिंग में ज्यादा जोर स्टेमिना और टेक्निक पर दिया जा रहा है।’

23 जुलाई से होगा तोक्यो ओलिंपिक का आयोजन
तोक्यो ओलिंपिक (2020 Tokyo Olympics) की शुरुआत 23 जुलाई से होगी। खेलों के इस महाकुंभ का समापन 8 अगस्त को होगा। अंशु मलिक और सोनम मलिक ने एशियाई ओलिपिंक क्वालिफायर्स के जरिए तोक्यो का टिकट कटाया है। सीमा (Sima Bisla) ने विश्व ओलिंपिक क्वालिफायर के फाइनल में जगह बनाकर तोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी जगह सुरक्षित की।

जापान और अमेरिकी पहलवानों से रहना होगा सावधान

कुलदीप मलिक ने कहा कि तोक्यो ओलिंपिक में भारत को अमेरिका, जापान और चीन के महिला पहलवानों से सावधान रहना होगा। महिला टीम के कोच कुलदीप ने कहा, ‘ देखिए, ओलिंपिक में पहुंचने वाली हर पहलवान से मुकाबला कड़ा होगा क्योंकि यहां तक पहुंचने के लिए उन्होंने कई दिग्गज पहलवानों को पछाड़ते हुए पहुंची हैं। वैसे मुझे अमेरिका, जापान और चीन की पहलवानों से मुश्किल चुनौती की उम्मीद है।’

ओलिंपिक के इतिहास में भारत ने महिला कुश्ती में अब तक सिर्फ एक मेडल अपने नाम किया है। साक्षी मलिक ने 2016 रियो ओलिंपिक (2016 Rio Olympics) में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रचा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *