Virat Kohli In WTC Final: 18 महीने और 45 पारियां… ठप्प पड़ी ‘शतक मशीन’, विराट के बल्ले को आखिर हुआ क्या?

आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के खिताबी मुकाबले में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम ने साउथम्पटन में पहली पारी में 217 रन बनाए। कप्तान विराट कोहली (44) उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (49) के बाद दूसरे सर्वश्रेष्ठ स्कोरर रहे। कोहली दूसरे दिन के स्कोर में एक भी रन का इजाफा नहीं कर पाए और काइल जैमीसन की गेंद पर LBW हो गए। इस तरह उनके चाहने वालों को एक बार फिर निराशा मिली है।

कोहली एक बार फिर शतक नहीं पाए हैं और देखा जाए तो उन्होंने दूसरे दिन कमाल की बैटिंग की थी और कीवी गेंदबाजों को विकेट से दूर रखा था, लेकिन आज वह ऐसा नहीं कर पाए। आखिरी बार उनके बल्ले से शतक नवंबर, 2019 में बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट में आया था। उन्होंने कोलकाता में 136 रनों की धांसू पारी खेली थी। उसके बाद से उन्हें शतक का इंतजार है।

45 पारियों से शतक नहीं
रेकॉर्ड पर नजर डाली जाए तो कोहली ने बिना शतक के तीनों प्रारूपों (टेस्ट, वनडे और टी20 इंटरनैशनल) में 45 पारियां खेली हैं और 17 फिफ्टी के दम पर 1690 रन बनाए हैं। हालांकि, उनके साथ एक अच्छी बात यह रही है कि कभी फॉर्म नहीं गई। उन्होंने अच्छी शुरुआत तो कई पारियों की, लेकिन उसे शतक में नहीं बदल पा रहे हैं।

20 जून को हुआ था टेस्ट करियर का आगाज
आज फैंस को उनसे खास पारी की उम्मीद थी। दरअसल, आज से 10 वर्ष पहले 20 जून, 2011 को कोहली ने टेस्ट करियर का आगाज किया था। उन्होंने सबीना पार्क में वेस्टइंडीज के खिलाफ पहला टेस्ट खेला था। उस मैच में उन्होंने 4 और 15 रन की पारी खेली थी।

पिछले 4 सालों में ऐसा प्रदर्शन
कोहली ने 2019 में सात शतक और 14 अर्धशतक, 2018 में 11 शतक और नौ अर्धशतक तथा 2017 में 11 शतक और 10 अर्धशतक लगाए थे। जबकि 2020 में कोहली ने वनडे में पांच अर्धशतक और टेस्ट तथा टी-20 में एक-एक अर्धशतक बनाया था।

इतने शतक हैं उनके नाम
उल्लेखनीय है कि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शुमार कोहली के नाम वनडे इंटरनैशनल में 43 वनडे सेंचुरी (Virat Kohli ODI Century) हैं, जबकि टेस्ट में 27 शतक उनके नाम हैं। कोहली ने अपनी पहली वनडे सेंचुरी दिसंबर 2009 में श्रीलंका के खिलाफ ईडन गार्डंस (Eden Gardens) मैदान पर लगाई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *