घंटों बीडियो के कमरे में छुपे रहे एडीओ पंचायत।

शिवाकांत अवस्थी

महराजगंज/रायबरेली: अपने 10 साथियों का अकारण वेतन रोके जाने तथा आए दिन कथित रूप से एडीओ पंचायत द्वारा अमर्यादित व्यवहार किए जाने के मामले को लेकर ब्लॉक मुख्यालय पर बृहस्पतिवार के दोपहर बाद सफाई कर्मचारी हत्थे से उखड़ गए, और कर्मचारियों ने एडीओ पंचायत का घेराव कर उनके खिलाफ जमकर नारेबाजी की। गनीमत रही कि, एक प्रधान प्रतिनिधि ने एडीओ पंचायत को खंड विकास अधिकारी के कार्यालय के कमरे में धकेल कर अंदर कर दिया, अन्यथा आक्रोशित कर्मचारी हाथापाई पर उतारू हो सकते थे। समाचार लिखे जाने तक ब्लॉक मुख्यालय पर सफाई कर्मचारी लगातार नारेबाजी करके कार्यालय को घेरे बैठे थे। जहां पर एडीओ पंचायत छिपे हुए थे।

    आपको बता दें कि, मामले की शुरुआत हरदोई गांव की सफाई करने के लिए सफाई कर्मियों की 10 सदस्यीय टीम को वहां तैनात किया गया था। एडीओ पंचायत को किसी ने फोन पर शिकायत कर दी कि, कर्मचारी काम नहीं कर रहे हैं। आनन फानन एडीओ पंचायत ने एकतरफा कार्रवाई करते हुए सभी 10 कर्मचारियों के जून माह का वेतन रोक दिया।

कर्मचारियों में विमलेश कुमार चौधरी ,बालकृष्ण मौर्य ,रमेश कुमार, देवपाल, शीतला प्रसाद, कृष्ण कुमार, सरोज कुमारी, गोविंद और माया देवी के अलावा सफाई कर्मचारी संघ के पूर्व ब्लाक अध्यक्ष बिंदा प्रसाद शामिल थे। कर्मचारी एडीओ पंचायत से मिले और उनकी एक तरफा कार्रवाई का विरोध करते हुए पुनर्विचार की मांग की।

बताते हैं कि, ब्लॉक मुख्यालय पर हुई बातचीत में एडीओ पंचायत का पारा चढ़ गया। आरोप है कि, एडीओ पंचायत ने सफाई कर्मचारियों को अपने कक्ष से बाहर भगा दिया। कर्मचारियों ने यह बात आकर अपने अन्य साथियों से बताई और गुस्सा भड़क गया। दर्जनों की तादाद में सफाई कर्मचारी एकत्र हो गए, और ब्लॉक मुख्यालय पर एडीओ पंचायत को हटाने को लेकर उनके विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी।

 आपको यह भी बता दें कि, पहले कर्मचारियों ने एडीओ पंचायत से बातचीत करने की कोशिश भी की, लेकिन क्रोधित कर्मचारी उनकी ओर लपके तभी पुरासी गांव के ग्राम प्रतिनिधि गंगासागर पांडेय ने एडीओ पंचायत जितेंद्र सिंह को बीडीओ कक्ष में धकेल कर अंदर कर दिया। फिर भी कर्मचारी नारेबाजी करते रहे। कर्मचारियों का नेतृत्व कर रहे हैं, वर्तमान ब्लाक अध्यक्ष रामबहादुर का कहना है कि, जब तक एडीओ पंचायत जितेन्द्र सिंह का तबादला महराजगंज से नहीं किया जाता, और 10 कर्मचारियों सहित पूर्व से गैरकानूनी तरीके से अन्य कर्मचारियों के रोके गए वेतन की कार्रवाई को खत्म नहीं किया जाता है, तब तक उनका यह आंदोलन जारी रहेगा।

मामले में ब्लॉक में मौजूद खंड विकास अधिकारी प्रवीण कुमार ने सफाई कर्मचारियों को समझा बुझा कर मामला शांत कराने की अपील भी की। किन्तु समाचार लिखे जाने तक कर्मचारी अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। प्रदर्शन में सफाई कर्मियों ने यह भी कहा कि, जिले के आला अफसर सफाई कर्मचारियों के उत्पीड़न के पूरे मामले की जांच कर लें। उनकी यह भी मांग है कि, या तो एडीओ पंचायत को यहां से हटाया जाए, अन्यथा यहां तैनात सभी सफाई कर्मचारियों को ही महराजगंज ब्लॉक से हटा कर कहीं और कर दिया जाए। तभी बवाल खत्म होगा।

   इस मौके पर मनोज गुप्ता, श्री राम, रामसमुझ, चंद्रशेखर, राजेश कुमार, राकेश हेला, राम सजीवन नंदलाल, आदि मौजूद रहे।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *