दिल्ली। अगले एक महीने से कम समय के दौरान देशभर में शादी का सीजन चलेगा। इस दौरान आगामी 20 जुलाई को देवशयनी एकादशी है। यह स्थिति देवताओं के शयन की मानी जाती है। जाहिर है कि ऐसे में विवाह सीजन खत्म होने में सिर्फ 3 सप्ताह का ही समय शेष है। दिल्ली, यूपी और हरियाणा सरकार ने शादी समारोह के लिए मेहमानों की संख्या और स्थल को लेकर क्या गाइडलाइन जारी की है।

दिल्ली में सिर्फ 20 मेहमानों को है इजाजत – कोरोना की दूसरी लहर में मुश्किलात का सामना करने वाली दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार ने शादी-समारोह को लेकर काफी सख्त नियम तय किए हैं। दिल्ली अनलॉक-4 में प्रवेश कर गई है, फिर भी दिल्ली में शादी-समारोह में सिर्फ 20 मेहमान ही शिरकत कर सकेंगे। इसमें घराती और बराती शामिल हैं।

नोएडा-गाजियाबाद में सिर्फ 50 मेहमान हो सकेंगे शामिल – योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा जारी हालिया गाइडलाइन के मुताबिक, शादी समारोहों व अन्य आयोजनों में बंद अथवा खुले स्थानों पर एक समय में अधिकतम 50 आमंत्रित अतिथि ही शिरकत कर सकेंगे। यह अनुमति भी कोविड प्रोटोकाल के अनुसार दी जा रही है। इस दौरान इन प्रतिबंधों के अनुपालन की जिम्मेदारी आयोजकों की होगी।

गुरुग्राम, फरीदाबाद समेत हरियाणा के एनसीआर के शहरों में भी नियम हैं सख्त – दिल्ली से सटे गुरुग्राम, पलवल, फरीदाबाद, सोनपीत समेत तमाम शहरों में हरियाणा सरकार ने शादी-समारोह को लेकर नियम सख्त किए हुए हैं। इसके तहत जहां पर धार्मिक स्थल 21 लोगों की सीमा के साथ खोलने की छूट है, तो विवाह-समारोह के लिए भी 21 लोगों की सीमा तय है। इतना ही नहीं, विवाह में बरात की अनुमति पर अभी 28 जून तक रोक जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *