यह सिर्फ एक टीम नहीं, परिवार है…WTC FINAL में हार के बाद भावुक हुए कोहली

लगातार दो साल से जिस ट्रॉफी के पीछे टीम इंडिया भाग रही थी, वो अब उसकी पहुंच से दूर हो चुकी है। क्योंकि विश्व क्रिकेट को न्यूजीलैंड के रूप में उसका पहला टेस्ट चैंपियन मिल चुका है। वर्षाबाधित खिताबी मुकाबले में केन एंड कंपनी ने विराट सेना को आठ विकेट से मात दी।

भारतीय टीम के लिए यह नाजुक पल है। खिलाड़ियों का आत्मविश्वास डगमगाया हुआ है। सामने इंग्लैंड की कड़ी चुनौती है, इससे पहले कप्तान कोहली अपनी सेना का गिरा मनोबल उठाना चाह रहे हैं। तभी तो उन्होंने दुनिया के सामने यह पैगाम दिया।


यह टीम नहीं परिवार है

करारी हार के ठीक अगले दिन गुरुवार रात उन्होंने ट्वीट किया, ‘यह सिर्फ एक टीम नहीं, बल्कि परिवार है। हम साथ आगे बढ़ते हैं।’ आगे उन्होंने नीला दिल और तिरंगा झंडा भी डाला। मतलब साफ है रन मशीन कोहली विश्व को यह संदेश देना चाहते हैं कि करारी शिकस्त के बाद मिले झटके से अब पूरा भारतीय दल उबर रहा है और वह हर हाल में अपने खिलाड़ियों के साथ खड़े हैं।

बेस्ट ऑफ थ्री फॉर्मेट की पैरवी
हार के बाद वह विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फॉर्मेट पर भी सवाल उठाते नजर आए थे। कोहली ने मुख्य कोच रवि शास्त्री (Indian Team Coach Ravi Shastri) के सुर में सुर मिलाते हुए फाइनल एक नहीं बल्कि ‘बेस्ट ऑफ थ्री’ (Best of Three Final) प्रारुप में होने की दलील दी थी। बकौल भारतीय कप्तान दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट टीम का निर्धारण एक फाइनल के आधार पर नहीं हो सकता।

बल्ले से फ्लॉप रहे कोहली
फाइनल की दोनों पारियों को मिलाकर विराट कुल 57 रन ही बना पाए। पहली इनिंग में कोहली ने 44 रन बनाए थे। वहीं दूसरी पारी में उन्होंने 13 रन बनाए। दोनों पारियों में उन्हें काइल जैमीसन ने आउट किया। जैमीसन इंडियन प्रीमियर लीग में कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेलते हैं। जैमीसन की एक गेंद पर उन्हें बीजे वॉटलिंग ने कैच किया। उन्होंने ऑफ स्टंप के बाहर उठती गेंद पर बल्ला अड़ा बैठे।

भारत ने ऐसे गंवाया मैच
पहले और चौथे दिन का खेल बारिश की भेंट चढ़ने के कारण मैच छठे दिन तक खिंचा जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने सुरक्षित दिन रखा था। न्यूजीलैंड ने इसका पूरा फायदा उठाया। पहले उसके गेंदबाजों ने भारत को दूसरी पारी में 170 रन पर समेट दिया और बाद में टेलर (100 गेंदों पर नाबाद 47) और विलियमसन (89 गेंदों पर नाबाद 52) की उत्कृष्ट पारियों से दो विकेट पर 140 रन बनाकर इतिहास रच दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *