लड़कियां पढाई के लिए गर्ल्स हॉस्टल मे एक अलग ही दुनिया होती है। जहां अलग-अलग जगहों से आकर लड़कियां साथ रहती हैं। साथ सोती हैं, कमरा शेयर करती हैं, बेड शेयर करती हैं, बाथरूम शेयर करती हैं, कपड़े शेयर करती हैं और सबसे खास एक दूसरे के दुख-सुख भी शेयर करती हैं। हॉस्टल एक ऐसी जगह है जहां लड़की कई नए रिश्ते बनाती है।

खाली टाइम मिलते ही फटाफट से मेकअप करना। लेकिन कहीं घूमने जाने के लिए नहीं सिर्फ और सिर्फ पाउट्स बनाकर फोटो क्ल‍िक करने के लिए। पूरी रात जगकर एक के बाद एक पिक्चर देखना।

पूरी रात जगकर एक-दूसरे के अफेयर, क्रश, लव-लाइफ, शादी, सुहागरात और सौतन के बारे में बातें करना।

देर रात तक सेनेटरी पैड्स की क्वालिटी, पीरियड्स की डेट, पीरियड्स के दिन, पीरियड्स की प्रॉब्लम के बारे में बातें करना।

सहेली के ब्वॉयफ्रेंड को अनजान लड़की बनकर फोन करना और उसका रिस्पॉन्स जानना। योग, व्यायाम और डाइट को लेकर गंभीर चिंतन करना और एकसाथ सारे नियम मानना।

वॉर्डन और दुश्मन गैंग से छिपकर शराब पीना, सिगरेट पीना। पकड़े जाने पर झट से कान पकड़ लेना। दीवानों की तरह नाचना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *