Zaigham Murtaza
कानपुर की वंदना मिश्र रसूख़ वाली महिला थीं। सत्तारूढ दल में उनकी अच्छी पहुंच थी। किदवई नगर में रहती थीं और इंडियन इंडस्ट्रीज़ एसोसिएशन की कानपुर शाखा की अध्यक्ष थीं लेकिन आज वीआईपी कल्चर का शिकार बन गईं और जान गंवा बैठीं।
हुआ यूं कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के दौरे के चलते शहर के कई रास्ते बंद थे और बाक़ी पर भारी जाम। वंदना बीमार थीं और उन्हें रीजेंसी ले जाया जा रहा था। उनकी गाड़ी जाम में फंस गई। उनके पति पुलिस के सामने रोते-गिड़गिड़ाते रहे।
रास्ता देने की मांग करते रहे लेकिन उनकी फरियाद नहीं सुनी गयी। आख़िर वंदना ने दम तोड़ दिया। अब पुलिस कमिश्नर माफी मांग रहे हैं लेकिन उनकी माफी वंदना को ज़िंदगी नहीं लौटा सकती। कुल मिलाकर इस देश में कितने ही बड़े बन जाइए लेकिन व्यवस्था के सामने आपकी इतनी ही औक़ात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *