इब्न ए आदम
हमारे यहाँ एक लड्डन भाई है । लड्डन भाई समाजसेवी हैं , लोगों की शादी करवाने का उन्हें शौक़ है । लड्डन भाई ने दो दर्जन से ज़्यादा शादी करवायी हैं लेकिन खुद कुँवारे रह गए ।
चित्रा त्रिपाठी जी महिला अधिकारो की चैम्पीयन है । ट्रिपल तलाक़ बिल पर उनका जोश देखने लायक़ था । मुस्लिम महिलाओं को तो उन्होंने इंसाफ़ दिला दिया लेकिन उनका पति उनके साथ अन्याय कर रहा है । काश – कोई उन्हें भी न्याय दिला पाए ।
वैसे चित्रा त्रिपाठी जी , आपको शायद पता नहीं कि मुस्लिम महिलाओं के पास एक “ ख़ुला “ नामक हथियार भी होता है । अगर किसी मुस्लिम महिला का पति बेवफ़ा हो , धोखेबाज हो , फ़रेबी हो , शराबी हो , उसको ख़र्च ना देता हो तो वो मुस्लिम महिला अपने पति से “ ख़ुला “ ले सकती है मतलब अलग हो सकती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *