आवेश तिवारी
अतुल अग्रवाल पत्नी का खुन्नस पुलिस पर उतारने के चक्कर मे फंस गया। मजेदार यह रहा कि ट्वीटर और फेसबुक पर हाथी का पूंछ पकड़ हल्ला करने वाले भी एक्सपोज हुए जिन्होंने बिना सोचे बिचारे इस मामले को लेकर पुलिस पर हमला बोलना शुरु कर दिया था।
पुलिस ने जो प्रेस कांफ्रेंस किया है उसमें अतुल अग्रवल से जमकर बदला लिया गया। प्रेस कांफ्रेंस में यह बार बार कहा गया कि उन्होंने अपनी महिला मित्र के यहां खाना खाया 3 बार फोन किया लेकिन यह नही कहा गया कि वो Oyo होटल में किसी मित्र के साथ रुके थे लेकिन जनता ने वही माना जो वह मानना चाहती है।
सच्चाई यह है कि अतुल अग्रवल की महिला मित्र का विवरण अनावश्यक तौर पर लाया गया। यह भी सच है कि चित्रा पहले अतुल के प्रेम में पड़ी फिर दोनों ने शादी की यह भी सच है कि दोनों के बीच के संबंध बेहद खराब हैं। मई 2016 में अतुल के खिलाफ एफआईआर भी हुई अतुल ने मारकर चित्रा को घायल कर दिया था।
लेकिन इस प्रकरण मे जो सबसे चौकाने वाली बात हुई वह यह थी कि सरकार चाहती तो चित्रा की भक्ति को देखते हुए इस मामले को रफा दफा कर उनका सम्मान बचा सकती थी, पर ऐसा नही हुआ। अभी एक मित्र कह रहे थे कि अतुल के साथ बिगाड़ का बदला वह समाज से ले रही है इसलिए वह मोदी की भक्त है,मैं इस बात स्व सहमत हूँ। अखबारों की माने तो अतुल और चित्रा के बीच तलाक का मामला चल रहा है गर ऐसा है तो अतुल किससे मिलते हैं कहाँ रात बिताते हैं यह उनका व्यक्तिगत मामला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *