इसे मोहब्बत को परवान चढ़ना मानें या फिर कुछ और, आजकल के युवक-युवतियों की सोच बदल रही है। वे बिना सोचे-समझें प्रेम विवाह के बंधन में बंध रहे हैं। जींद में हर दूसरे दिन प्रेम विवाह करने का मामला सामने आ रहा है। परिजनों से नाता तोड़कर घर से भागकर प्रेमी जोड़े कोर्ट में शादियां रचा रहे हैं। फिर पुलिस सुरक्षा मांग रहे हैं।
जींद के पुलिस सेफ हाउस में पिछले 170 दिनों में 89 जोड़े पहुंचे हैं। फिलहाल 9 प्रेमी जोड़े पुलिस पहरे में रह रहे हैं। युवक-युवतियों के लिए यह विवाह बेशक खुशी देने वाले हों, लेकिन ऐसी शादियां मुसीबत बढ़ा रही हैं, क्योंकि कुछ दिन बाद ही तलाक के केस हो रहे हैं।
जिससे रिश्ता टूट रहा है, जिसे बाद में नासमझी में उठाया कदम कहा जा रहा है। वर्ष 2021 में सेफ हाउस में अब तक कुल 89 जोड़े आएं हैं। इनमें हाईकोर्ट के आदेश पर 6 जोड़े, जिला सेशन कोर्ट के आदेश पर 61, एसपी के मार्फत 22 जोड़े पुलिस सेफ हाउस में पहुंचे हैं। पुलिस द्वारा प्रेमी जोड़ों को कोर्ट में पेश कर सेफ हाउस में भेजा जाता है।
नाम न छापने की शर्त पर एक प्रेमी जोड़े ने बताया कि यहां पर सभी जोड़े खाना तैयार कराते हैं और मात्र 10 से 15 दिनों में ही उनके हजारों रुपए खर्च हो जाते हैं। देखने में आ रहा है कि प्रेम विवाह के कुछ दिन बाद तलाक के लिए अर्जी लगाई जा रही है। महिला सेल में पिछले तीन माह से प्रेम विवाह करने वाले दो जोड़ों का मामला चल रहा है। दोनों पक्षों की तीन-तीन बार काउंसिलिंग कर घर बर्बाद होने से बचाने का प्रयास किया जा रहा है।
लड़की पक्ष के लोगों का कहना है कि उन्होंने बेटी की खुशी के लिए प्रेमविवाह करने वाले दामाद के परिजनों को 10 लाख रुपए तक दे दिए, लेकिन अब लड़का-लड़की एक दूसरे से तलाक लेना चाह रहे हैं। अंतरजातीय विवाह करने वाले एक युवक ने पिछले दिनों जिला महिला संरक्षण अधिकारी के समक्ष गुहार लगाई कि मैडम जी, म्हारा पिंड छुड़वा दो।
जिला महिला संरक्षण अधिकारी सुनीता शर्मा का कहना है कि कुछ युवक-युवतियां एक-दूसरे को परखे व बिना सोचे -समझे प्रेम विवाह कर लेते हैं और कुछ समय बाद वे एक-दूसरे से दूर रहने का मन बना लेते हैं। इसके पीछे बेरोजगारी व आर्थिक तंगी बड़ा कारण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *