वसीम अकरम त्यागी
बागपत में राष्ट्रीय लोकदल की जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी ममता किशोर ने अपना पर्चा वापस ले लिया, और भाजपा में शामिल हो गईं। ऐसा ही शाहजहांपुर में हुआ यहां भी समाजवादी पार्टी की जिला पंचायत अध्यक्ष प्रत्याशी बीनू सिंह ने अपना पर्चा वापस ले लिया औऱ भाजपा में शामिल हो गईं। पीलीभीत में तो गज़ब का खेला हुआ है। पीलीभीत में स्वामी प्रवक्ता नंद भाजपा से सपा में आकर ज़िला पंचायत सदस्य का चुनाव जीते।
सपा ने अध्यक्ष पद का प्रत्याशी बनाकर मैदान में उतारा, वह आज फिर भाजपा के पाले में चले गये। नाम वापस लेकर मैदान छोड़ दिया। आप इसे लोकतंत्र कहें, या लोकतंत्र की हत्या कहें,या नोटतंत्र कहें, यह आपकी मर्ज़ी है, लेकिन इसे भ्रष्टतंत्र कहने बिल्कुल मत चूकिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *