अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर 15 नाबालिग मुक्त कराए गए, पढ़ाई और घुमाने का कहकर बिहार से दिल्ली बेचने ले जाए जा रहे थे बच्चे

अलीगढ़: बिहार के एनजीओ बचपन बचाओ आंदोलन की सूचना पर जीआरपी (GRP) और आरपीएफ (RPF) ने अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर बिहार से दिल्ली ले जाए जा रहे बच्चों को मुक्त कराया गया है। बिहार के कटिहार से कामाख्या नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस से 15 नाबालिग बच्चों को मानव तस्करी कर दिल्ली ले जाया जा रहा था। पुलिस ने 15 दलालों को गिरफ्तार कर लिया है।

स्टेशन पर ट्रेन पहुंचते ही चेक की गईं बोगियां
मंगलवार को बचपन बचाओ आंदोलन की सूचना पर अलीगढ़ जीआरपी इंस्पेक्टर अब्दुल मुईज खान और आरपीएफ इंस्पेक्टर चमन सिंह तोमर ने चाइल्ड लाइन के ज्ञानेंद्र मिश्रा के साथ मिलकर पूरी टीम ने अलीगढ़ जंक्शन स्टेशन पहुंचते ही कामाख्या नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस के अंदर एक-एक बोगी में चेक की। बोगी संख्या डी-1, डी-2, एस-4, एस-7 और एस-8 में 15 नाबालिग बच्चे मिले। बताया जा रहा है कि इन बच्चों को दिल्ली बेचने के लिए ले जाया जा रहा था।

विभिन्न तरह का दिया गया था प्रलोभन
पूछताछ में सामने आया कि अधिकतर बच्चे बिहार के कटिहार, पूर्णिया, अररिया, सहरसा,और पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों से दिल्ली तस्करी के लिए ले जाए जा रहे थे। बच्चों को तस्करों ने किसी को पढ़ाई तो किसी को दिल्ली-पंजाब घुमाने का लालच दिया था। पकड़े गए तस्करों का काम इन बच्चों को बिहार से दिल्ली, पंजाब और अन्य राज्यों में छोड़ना था। इसके लिए इस गैंग के सरगना ने इनकी न सिर्फ मासूम बच्चों के परिवारों वालों से जान-पहचान कराई गई, बल्कि दलालों सहित बच्चों के रेल टिकट का भी पूरा इंतजाम बिहार से बाहर ले जाने के लिए कराया गया था।

आरोपियों से पूछताछ की जा रही है
आरपीएफ इंस्पेक्टर चमन सिंह तोमर और जीआरपी इंस्पेक्टर अब्दुल मुईज खान ने कहा कि बरामद किए गए इन बच्चों और इनको ले जाने वालों से लोगों से पूछताछ जारी है। बिहार में कार्यरत बचपन बचाओ आंदोलन की टीम द्वारा मामले की में तहरीर देने की बात कही गई है। थाने में तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *