हिसार। हिसार के मंडी आदमपुर में भाजपा नेत्री सोनाली फोगाट कल किसान रेस्ट हाउस में जन समस्याएं सुनने पहुंची। लेकिन हैरानी की बात ये रही कि रेस्ट हाउस में काफी संख्या में किसान भी बैठे रहे लेकिन किसी भी किसान ने किसी प्रकार का कोई विरोध नहीं किया। वहां मौजूद किसान सतीश बेनीवाल, सुरेंद्र ज्याणी, दलीप सिंह राहड़, नरषोतम मेजर, रघुवीर मंडेरणा, पंकज, राजेश बेनीवाल ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर सत्ता पक्ष के प्रतिनिधियों का विरोध करने का सिलसिला जारी रखा हुआ है जबकि सोनाली को हम विरोध के लायक नहीं समझते। इस लिए उनका कोई विरोध नहीं किया है।

किसानों ने कहा कि भाजपा नेत्री बिना किसी काम के ही मात्र सोशल मीडिया पर अपनी राजनीति चमकाने को गांव में घूम रही है और स्वयं चाहती है कि किसान उसका विरोध करें ताकि वह बड़ी नेता बन सके। किसानों ने बताया कि अभी तक सोनाली ने हलके की किसी समस्या का समाधान नहीं किया है और लोगों को मात्र झूठे आश्वासन ही दिए हैं। लेकिन मात्र 6 दिन पहले इन्हीं किसानों ने सोनाली फोगाट का दो जगह काले झंडे लेकर जोरदार विरोध किया था।

वहीं हिसार के मंडी आदमपुर को 30 साल बाद आखिर नगरपालिका का दर्जा मिल ही गया। लोगों ने मिठाई बांट कर इस बात की खुशी जताई है। प्रदेश की राजनीति में अहम भूमिका निभाने वाले आदमपुर को सरकार ने नगरपालिका की सौगात दी है। सरकार के निर्देशों के तहत गांव आदमपुर व जवाहर नगर पंचायत को मिलाकर आदमपुर नगरपालिका बनाया गया है। इसके तहत आदमपुर नगरपालिका की सीमाओं का निर्धारण किया गया है। बता दें विधानसभा चुनावों में यह मुद्दा उठा तो भाजपा नेत्री सोनाली फोगाट ने इस पर ध्यान देना आरंभ किया। चुनाव हारने के बाद वो आदमपुर में ज्यादा सक्रिय हो गई। नगरपालिका बनाने के लिए उन्होंने प्रयास को और अधिक तेज कर दिए। वहीं जजपा से चुनाव लड़े रमेश गोदारा ने डिप्टी सीएम के दरबार में कई बार आदमपुर को नगरपालिका बनाने की अर्जी लगाई।

डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा ने कहा की आदमपुर को नगरपालिका का दर्जा देकर मुख्यमंत्री ने यह सिद्ध कर दिया कि वे बिना भेदभाव प्रदेश में विकास करवा रहे हैं। भाजपा का विधायक न होते हुए भी आदमपुर को मुख्यमंत्री ने विशेष सौगात दी है। इससे पहले सीसवाल और बालसमंद गांव में भी परियोजनाओं का उद्घाटन मुख्यमंत्री कर चुके हैं। आदमपुर के विधायक कुलदीप बिश्नोई की विधानसभा में हाजिरी ना के बराबर है। वह कभी आते नहीं तो लोगों की आवाज क्या उठाएंगे मगर मुख्यमंत्री आदमपुर हलके के लोगों के साथ हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *