चक्काफेंक खिलाड़ी सीमा पूनिया ने कटाया ओलिंपिक का टिकट, हिमा का बाहर होना तय

अनुभवी चक्काफेंक खिलाड़ी सीमा पूनिया ने मंगलवार को तोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया, जिन्होंने राष्ट्रीय अंतर राज्य एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 63 . 70 मीटर का थ्रो फेंककर स्वर्ण पदक जीता।

37 वर्ष की पूनिया ने 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में रजत और 2018 एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था, उन्होंने 63.50 मीटर का ओलिंपिक क्वालीफाइंग मार्क हासिल किया ।

पूनिया का 2004, 2012, 2016 के बाद यह चौथा ओलिंपिक है। वह इस स्पर्धा में ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली दूसरी भारतीय महिला है। राष्ट्रीय रेकॉर्डधारी कमलप्रीत कौर ने 66.59 मीटर का थ्रो फेंककर सोमवार को क्वालीफाई किया था।

पूनिया तोक्यो ओलिंपिक के व्यक्तिगत वर्ग में क्वालीफाई करने वाली भारत की 12वीं एथलीट है, वह पिछले सप्ताह बेलारूस में मिंस्क ओपन खेलने के बाद रविवार को तड़के ही यहां पहुंची थी।

उन्होंने क्वालीफिकेशन के बाद कहा, ‘मैं इससे बेहतर थ्रो फेंक सकती हूं, लेकिन अपनी मांसपेशी की चोट को बढाना नहीं चाहती थी। मैंने पिछले ढाई साल में काफी मेहनत की है और क्वालीफिकेशन की खुशी है।’ मांसपेशी की चोट के कारण वह 2018 एशियाई खेलों के बाद तीन टूर्नामेंट ही खेल सकी।

स्टार फर्राटा धाविका हिमा दास का तोक्यो ओलिंपिक से बाहर रहना तय है। शनिवार को वह सौ मीटर की हीट में भाग लेते समय हैमस्ट्रिंग चोटका शिकार हो गई, इसके अलावा महिलाओं की चार गुणा साौ मीटर रिले टीम भी क्वालीफाई नहीं कर सकी जिसका वह हिस्सा है। हिमा ने 200 मीटर फाइनल के जरिए भी क्वालीफाई करने की कोशिश की लेकिन पांचवें स्थान पर ही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *