मोहम्मद जाहिद
आपको कुछ पता है कि पिछले रविवार को काश्मीर में क्या हुआ ? नहीं पता होगा , काश्मीरी पंडित होते तो पता होता , मीडिया बिग ब्रेकिंग न्यूज कराती और भत्ताखोर कुछ लोग पैनल डिस्कशन पर रो रहे होते।
पर वहाँ काश्मीरी मुसलमान मरे तो सब ओर चुप्पी है।
काश्मीर की असली समस्या यही है।
पिछले रविवार काश्मीर के पुलवामा में एक आतंकी हमले में SPO फैय्याज अहमद उनकी पत्नी और अब बेटी की मौत हो गयी। आतंकियों ने घर मे घुस कर उन सबको गोली मार दी।
इसके पहले मंगलवार को अन्य पुलिस ऑफिसर परवेज अहमद डार को दो अज्ञात आतंकवादियों ने मार दिया। परवेज अहमद श्रीनगर के नौगाम इलाके में नमाज पढ़ने जा रहे थे जब उनपर आतंकियों ने हमला किया।
बीते महीने भी जावेद अहमद नाम के एक अन्य पुलिस ऑफिसर को आतंकियों ने उनके घर के पास ही गोली मार दी थी। उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया था।
कहने का अर्थ यह है कि जो काश्मीरी मुसलमान पुलिस कर्मी भारत के लिए अपनी जान दे रहे हैं उनकी शहादत की कोई गिनती नहीं। काश्मीर में मुस्लिम पुलिस अधिकारी आतंकियों के हाथों लगातार मारे जा रहे हैं।
अभी काश्मीरी पंडित होते तो पूरा देश रो रहा होता। यह है काश्मीर की असली समस्या। आप वंदे मातरम बस गाईए और भत्ता खाईए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *