UP Politics: यूपी में योगी को सीधी चुनौती… प्रियंका को 2022 में सीएम चेहरा बनाने की तैयारी में कांग्रेस

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों में सभी राजनीतिक पार्टियां तेजी के साथ जुट गई हैं। कांग्रेस पार्टी भी इस बार यूपी विधानसभा चुनाव में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। यही वजह है कि इस बार पार्टी को ऑक्सिजन देने की जिम्मेदारी यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने खुद अपने कंधों पर ली है। इसी के चलते प्रियंका गांधी जुलाई के पहले हफ्ते में उत्तर प्रदेश दौरे पर आ रही हैं। माना जा रहा है कि ये दौरा लंबा होगा। हालांकि, पार्टी की तरफ से इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन पार्टी के सूत्रों के मुताबिक, दौरा लगभग तय है। कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की जा रही है।

प्रियंका गांधी हो सकती हैं मुख्यमंत्री का चेहरा!
कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के मुताबिक, प्रियंका गांधी वाड्रा विधानसभा चुनाव 2022 में उत्तर प्रदेश से कांग्रेस से मुख्यमंत्री का चेहरा होंगी। इसकी घोषणा संभवत: सितंबर-अक्टूबर में हो सकती है। उससे पहले प्रियंका यूपी की नेता, हिंदू नेता और आम नेता की छवि बनाना चाहती हैं। संगम में खुद नाव की पतवार संभालना और बीते दिनों रामपुर के रास्ते में खुद गाड़ी का शीशा पोंछने के पीछे वीआइपी छवि मिटाने की भी कोशिश है।

2019 से ही प्रियंका चुनाव लड़ने के लिए कर रहीं तैयारी
प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को संभालने का काम तो पार्टी में राष्ट्रीय महासचिव का पद पाने के बाद 2019 से ही शुरू कर दिया था। उस समय पार्टी ने लोकसभा में अपनी परंपरागत सीट अमेठी भले ही गंवा दी, लेकिन अब प्रदेश में कांग्रेस चर्चा का विषय है। प्रियंका अब 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई हैं। इतना ही नहीं पार्टी ने उनको उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री प्रत्याशी भी घोषित करने की योजना बना ली है। इसी रणनीति के तहत प्रियंका सभी जिलों में पुराने समर्थक और प्रबुद्धजनों से मिलेंगी।

लखनऊ में यहां रहकर करेंगी राजनीति
सूत्रों के मुताबिक, पूर्व केंद्रीय मंत्री शीला कौल के एक करीबी रिश्तेदार के गोखले मार्ग स्थित आवास को प्रियंका ने अपना ठिकाना बनाने का निर्णय किया है। अब वह जब भी लखनऊ आएंगी तो इसी घर में ठहरेंगी। इस घर में फिलहाल शीला कौल के परिवार का कोई सदस्य नहीं रहता है।

लखनऊवासियों के दिल, विश्वास और भरोसे में हैं प्रियंका
प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने प्रियंका गांधी के लखनऊ आगमन के सवाल पर कहा कि प्रियंका गांधी लखनऊ के लोगों के दिल, विश्वास और भरोसे में हैं और जिस तरह से उत्तर प्रदेश के बुनियादी सवाल पर पिछले समय आपने देखा होगा हाथरस की बेटी को न्याय दिलाना हो, उन्नाव की बेटी को न्याय दिलाना हो, शाहजहांपुर की बेटी को न्याय दिलाना हो या फिर अंबा में जब दलित भाई आदिवासी भाई बहनों की हत्या हुई थी, उनको न्याय दिलाना हो तब सड़कों पर संघर्ष किया था।

उन्होंने कहा कि तीन काले कानून के खिलाफ सड़कों पर उतरकर किसानों की आवाज को बुलंद करने का काम किया। जब इलाहाबाद में निषाद भाइयों के साथ बसवार के घटना हुई, तब उनके अधिकारों वह न्याय के लिए प्रियंका गांधी ने काम किया, मैं समझता हूं रोज उत्तर प्रदेश के नौजवानों के साथ प्रियंका गांधी हैं। आज जब 69,000 शिक्षक भर्ती के लिए नौजवान दलित और ओबीसी भाई, जिनके अधिकारों पर सरकार ने डाका डालने का काम किया, तब कांग्रेस ने उनकी आवाज को बुलंद किया, मैं समझता हूं कि देश की दूसरी नारी जो हैं, वह प्रियंका गांधी हैं।

राष्ट्रीय नेतृत्व तय करेगा सीएम का चेहरा
प्रियंका गांधी राष्ट्रीय महासचिव हैं, उत्तर प्रदेश के प्रभारी हैं। उनकी देखरेख में चुनाव होगा और मुख्यमंत्री का चेहरा राष्ट्रीय नेतृत्व तय करता है, जो राष्ट्रीय नेतृत्व तय करेगा वही उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद का दावेदार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *