Noida news: इनकम टैक्स ने भी शुरू की जांच…कोर्ट ने कहा दावेदार नहीं तो गिरफ्तारी कैसे? जानें नोएडा में सबसे बड़ी चोरी केस का ट्विस्ट

ग्रेटर नोएडा की पूर्वांचल सिल्वर सिटी सोसायटी के फ्लैट से हुई 40 किलो सोना व 6.5 करोड़ कैश चोरी में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने भी जांच शुरू कर दी है। इनकम टैक्स यह पता लगाएगा कि चोरी हुई संपत्ति किसकी थी और कहां से किस स्रोत से लाई गई थी। इसको लेकर नोएडा पुलिस से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 4 बिंदुओं पर जानकारी मांगी है।

इनकम टैक्स को दिए जाने वाले यह जवाब अहम होंगे। नोएडा पुलिस चोरी गई संपत्ति का मालिक जांच के आधार पर राममणि पांडेय व उनकी पत्नी संजू पांडेय बेटे किसलय पांडेय को मान रही है। इन तीनों को नोटिस भी जारी किया जा चुका है।

गाजियाबाद गई टीम, 9 वें आरोपित की भी गिरफ्तारी जल्द
नोएडा पुलिस के मुताबिक यह चोरी 25 अगस्त को सिल्वर सिटी के फ्लैट से 10 लोगों ने की थी। चोरी का मास्टर माइंड गोपाल व उसके दो साथी पंकज, सिमतल अभी फरार हैं। गोपाल पर पुलिस ने इनाम भी घोषित किया हुआ है। पंकज और सिमतल पर इनाम घोषित करने की प्रक्रिया चल रही है। बुधवार को पुलिस टीम गाजियाबाद गई थी। पंकज पर इनाम घोषित करने के लिए उसके पते का सत्यापन की कवायद शुरू हो गई है। सूत्रों की माने तो जल्द ही एक और आरोपित की गिरफ्तारी पुलिस कर सकती है। अब तक चालक प्रदीप समेत 8 आरोपित गिरफ्तार हो चुके हैं।

राममणि, संजू और किसलय पर कार्रवाई के लिए कानूनी राय ले रही पुलि
राममणि पांडेय उनकी पत्नी संजू पांडेय और बेटे किसलय पांडेय का चोरी हुई संपत्ति से कनेक्शन नोएडा पुलिस जोड़ रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि कई पुख्ता सबूत और गवाह हैं जो यह बता रहे हैं कि यह संपत्ति इन्हीं तीनों की थी। एक नोटिस भी जारी हो चुकी है। आगे की कार्रवाई के लिए कानूनी राय मांगी गई है। यह राय अभी मिलना बाकी है।

दावेदार नहीं तो गिरफ्तारी कैसे?
जिला न्यायालय ने 40 किलो सोना व 6 करोड़ नकदी चोरी मामले में चार आरोपितों की जमानत अर्जी स्वीकार कर ली है। कोर्ट ने कहा है कि जब बरामद सामान का कोई दावेदार नहीं है तो गिरफ्तारी कैसे हो गई। कोर्ट ने जेल गए आरोपित जय सिंह, नीरज, राजन भाटी व बंटी शर्मा की जमानत अर्जी स्वीकार की है। इस मामले में नोएडा की सेक्टर 39 कोतवाली पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार किया था। आरोपितों के कब्जे से 15 किलो सोना व 57 लाख रुपये नकद बरामद हुए थे।

कोर्ट ने दी आरोपियों को जमानत
बचाव पक्ष के अधिवक्ता सुशील भाटी ने बताया कि कोर्ट ने सुनाई के दौरान तथ्य व साक्ष्यों के आधार पर चारों लोगों की जमानत अर्जी स्वीकार की है। कोर्ट ने यह भी कहा है कि जमानत पाने वाले व्यक्ति एक-एक लाख के व्यक्तिगत बंधनपत्र दाखिल करेंगे। आरोपित किसी भी स्थिति में साक्ष्यों को नष्ट अथवा मिटाने का प्रयास नहीं करेंगे। न ही किसी व्यक्ति को धमकी देंगे। पुलिस जांच का आरोपित सहयोग करेंगे। यदि आरोपित शर्तों का उल्लंघन करेंगे तो उनके खिलाफ फिर से कार्रवाई की जाएगी।

गिरफ्तार किए गए आरोपी

गिरफ्तार किए गए आरोपी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *