हरियाणा के हिसार में एसडीएम कार्यालय के बाहर रिश्वत लेते पकड़े गए स्टेट क्राइम ब्रांच हिसार के कार्यरत्त एसआई विजेंद्र कुमार को कोर्ट ने जेल भेज दिया है। विजिलेंस की टीम ने आरोपी एसआई को 40 हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए दबोचा था। जिस पर उसे कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उसे सीधा जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया है। वहीं विजिलेंस के इंस्पेक्टर धर्मवीर दहिया ने सोनीपत क्राइम ब्रांच से रिकॉर्ड मांगा है। जिसकी जांच के बाद ही पता लगेगा कि इस अपराध में कोई और शामिला था या नहीं।
जीएसटी फ्रॉड मामले में एक गवाह ने विजिलेंस टीम को शिकायत दी थी कि वह जीएसटी फ्रॉड मामला जो जनवरी 2019 में पानीपत के चांदनीबाग थाने में दर्ज किया गया था उसमें गवाह है। जिस पर एसआई विजेंद्र सिंह गवाह के ब्यान लिखने की बजाय उसे जेल भेज देने की धमकी दे रहा था।
जिस पर उसने गवाह से 2 लाख रूपये की डिमांड की। लेकिन एक लाख में डील तय हो गई थी। जिस पर वह 40 हजार रूपये उसे देने के लिए आया था। विजिलेंस ने जाल बिछाकर आरोपी एसआई को मौके से रंगे हाथों पकड़कर गिरफ्तार कर लिया था।
पूरे मामले को लेकर डीआईजी विजिलेंस अशोक कुमार सामने आए और बताया कि आरोपी एसआई हाल में जींद के सेक्टर 10 में रहता है। वहीं शिकायतकर्ता पंजाब में मानसा के गांव कानहेवाला का रहने वाला है। जिससे एसआई ने रिश्वत ली थी। आरोपी पर भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *